आधुनिक युग में स्वास्थ, एंव सौन्दर्य पोषण
January 29, 2019 • Swasthaya Rakshak

  • चीन काल में भारत में महिलाएँ अपने व्यक्तित्व एंव सौन्दर्य को बनाये रखने के प्रति अत्यंत सचेत थी इसके अंतर्गत कोमल एंव चिकनी त्वचा, बालों की चमक बनाए रखने के उपाय शामिल थे। वे आंतरिक सौन्दर्य से सुन्दरता को बनाए रखने में विश्वास रखती थीआयुर्वेद के विशाल रत्न भंडार में भोज्य पदार्थों के बारे में बहुत कुछ लिखा गया है। यह कुछ ऐसा है कि जो कुछ भी हम दिन में कई बार खाते हैं उसकी तुलना ईधन से की जा सकती है, वह ईधन जो हमारे शरीर को चलाता है। पंरतु जो ईधन हम शरीर मे डालते है। वह पोषण से भरपूर होगा तभी वह हमें एक निरंतर स्वस्थ जीवन प्रदान कर सकेगा। आधुनिक युग में स्वास्थ, पोषण एंव फिटनेस में एक क्रांति आ चुकी है, इसमें हमारे प्राचीन ज्ञान से ली गई जानकारी का भी विशेष महत्व है यह विज्ञान ने भी सिद्ध कर दिया है। कुछ अति महत्वपूर्ण खाद्य तत्व Nutrients जो कि त्वचा एंव बालों की कुदरती सुंदरता बनाए रखने में सहायक होते है निम्नलिखित है
  • 1. Collagen peptide and proteins   2. Biotin and other B Vitamins   3. Kelp and Trace    4. Hyaluronic acid                5. Glutathione   6. Licorice -मुलहठी बनाए उपाय
  • 1. Collagen - कोलाजन एक लम्बी श्रृंखला एमिनो एसिड और शरीर में सबसे प्रचुर मात्रा में पाया जाने वाला प्रोटीन है। वास्तव में कोलाजन प्रोटीन शरीर में कुल प्रोटीन का 30% एंव त्वचा में प्रोटीन का 70% होता हैं। कोलाजन प्रोटीन की संरचना निम्न विभिन्न एमिनो एसिड से मिलकर होती है, Glycine, Proline, Hydroxy proline एंव Arginineप्रकृति में यह पशु उतक, विशेष रूप से हड्डियों एंव संयोजी उतक (Connective tissuse) में पाया जाता है। कोलाजन ही त्वचा को लोच एंव बालों को मजबूत देने के लिए जिम्मेदार है। Glycine, Proline, Alanine एंव Arginine. इन एमिनों एसिड का संतुलन ही कोलाजन को बालो के लिए इतना विशिष्ट एंव महत्वपूर्ण बनाता है। 
  • जैसे जैसे हमारी उम्र बढती है त्वचा में उपस्थित कोलाजन का क्षरण होने लगता है एंव परिणामस्वरूप हमारी त्वचा ढीली एंव लटकने लगती है। सुगठित त्वचा बनाये रखने के कई प्राकृतिक उपाए हैं। सही भोजन एंव व्यायाम त्वचा की कांति एंव कसावट बनाए रखने के सबसे उत्तम प्राकृतिक उपाय हैं। संतुलित आहार दमकती स्वस्थ त्वचा के लिये अत्यंत आवश्यक हैं। त्वचा तक सही का Nutrients पहुँचना जरूरी है ताकि स्वस्थ Cells का निमार्ण एंव उचित रखरखाव हो सके। कम उम्र दिखने के लिये हमारे शरीर को त्वचा में नये Collagen Cells को उत्पन्न करना चाहिये।

        2. Biotin- बायोटिन एंव अन्य B विटामिन्स, बायोटिन है जो कि शरीर को प्रोटीन के Metobolize करने में मदद करता है। यह विटामिन स्वस्थ त्वचा एंव बालों के लिए आवश्यक है क्योंकि हमारे नाखुन एंव बाल प्रोटीन द्वारा बनते है। Biotin नाखुन एंव बालो कों मोटा एंव मजबूत बनाने में सहायक है। साथ ही साथ बालोके Cortex की लोच बढाने, एंव उन्हें टूटने से रोकता है, साथ ही साथ Cuticles की मोटाई बढ़ाने के साथ-साथ बालो के विकास को भी बढ़ाता है।

3. Kelp and Trace Mineralsबालो का विकास भी शरीर में हार्मोनल परिवर्तन द्वारा नियमित होता है। हार्मोन के स्तर में असामान्यताएँ बालों के अत्यधिक गिरने का कारण हो सकती हैं जैसे थायराइड ग्रंथि की बीमारी में।बहुत ज्यादा थायराइड हार्मोन बालों को                                          5. 

पतला एंव कम कर देगा एंव इस हार्मोन की कमी से अत्यधिक बाल झड़ेंगे। Kelp जोकि एक seaweed है, समुद्र के पानी से घटकों को निकालता है और अपने Frond आकार के पत्तों में एकत्र कर लेता है। Kelp, आयोडीन, पोटेशियम, मैग्नीशियम, कैल्शियम एंव आयरन जैसे Tress Minerals का एक प्रचुर स्त्रोत है। Kelp को मुख्यतः अपने उच्च आयोडीन उपलब्धता के कारण उपयोग किया जाता है। जो कि थायराइड ग्रंथि के कार्य में मदद करता है। आयोडीन थायराइड हार्मोन के निर्माण के लिए आवश्यक है।

4. Hyaluronic acid - यह एक प्रकार का कार्बोहाइड्रेट है जो शरीर में स्वाभाविक रूप से पाया जाता है। यह ऑखों व जोड़ों को lubricate करना है, साथ ही साथ इसे ऑस्टियो अर्थराइटिस के इलाज में भी इस्तेमाल करते है। पत्तेदार भाजियॉ, कंद एंव Soy से बने खाद्य पदार्थ इसका उत्तम स्त्रोत हैं। हड्डियो एंव Tissues से बना Soup इसका और भी बेहतर स्त्रोत है। Red wine के प्रयोग से शरीर में Hyaluronic acid का स्वाभाविक उत्पादन बढ़ सकता है। इसे Supplement लेकर भी बढ़ाया जा सकता है अथवा त्वचा की उपरी सतह पर लेप लगाकर भी।

5. Glutathione - इस शब्द का नाम अक्सर त्वचा की सफेदी या रंगत के संदर्भ में सुना जाता है। यह नैसर्गिक रूप से पौधों, पशुओं, fungi एंव कुछ बैक्टीरिया में पाया जा सकता है। Glutathione का मुख्य कार्य Melanin को परिवर्तित करना है। Melanin Skin pigment है जो त्वचा का रंग निर्धारित करता है। इसके दो प्रकार होते है- Eumelanin एंव Pheomelanin त्वचा की रंगत निखारने के लिए Glutathione, eumelanin को pheomelanin में परिवर्तित कर देता है। यह कहा जाता है कि यदि इसे मौखिक रूप से लिया जाये तो यह व्यक्ति की रगत निखारने में मददगार नहीं होता है। फिर भी कुछ भोज्य पदार्थ है जो उसे प्रभावित करते हैंजैसे- Milk thistle जोकि Silymarin युक्त होता है, Avocado, पालक एंव ब्रोकोली Glutathion को बढ़ाते है। Asparagus इसका उति उत्तम स्त्रोत है इसी तरह ताजा मांस, कच्चे अंडे एंव लहसुन भी इसके को levels बढ़ाने में मददगार हैं। हल्दी एक एजाइम की सहायता करती हैं जो Glutathione को बनाने में आवश्यक हैं। 

6. Licorice मुलहठी-      इसे । इसके मूल रूप में यदि त्वचा पर प्रयोग करें तो चमत्कारिक परिणाम मिलते हैं। इसके जड़ के सत्त् को कई प्रकार के त्वचा रोगों को दूर करने लिये इस्तेमाल करते हैं। यह सब इसके एन्टी ऑक्सीडेन्ट, एन्टी वायरल एंव एन्टी इन्फलेमेटरी गुणों कारण करते है। एक नये शोध द्वारा पता चला है Licorice root extract के साथ Retinoic acid एंव Betamethasone त्वचा को उज्जवलता प्रदान करते हैं, Licorice का उपयोग दाग धब्बों को मिटाने में, Cleansers एंव Moisturizers में होता है। यह सूर्य किरणों से क्षतिग्रस्त त्वचा एंव Hyper pigmentation को हल्का करता है।यह Melanin का उत्पादन कम करने में सहायक है ये Root extracts त्वचा को स्वच्छ, उज्जवल एंव चमकदार बनाता है साथ Acne वाली त्वचा को भी बेहतर बनाना है। सौन्दर्य को बनाये रखने के लिये पर्याप्त नींद, पर्याप्त पानी पीना भी आवश्यक है। हमारे स्वाभाविक सान्दर्य को बनाएं रखने के लिए Detoxification पहला चरण है। Detox से न सिर्फ त्वचा अधिक स्वस्थ होती है बल्कि हमारी पाचन शक्ति भी बेहतर होती है एंव Weight loss भी हो सकता हैं। स्वाभाविक रूप से सौन्दर्य रक्षा के लिए सही भोजन, युक्त पानी, नींद, व्यायाम एंव Detox आदि सब एक सतुंलन में होना चाहिय अंत में यही कहा जा सकता है। बाह्य सौंदर्य, आंतरिक स्वास्थ्य एंव समन्वय का ही प्रतिबिंब हैं।